जल शक्ति मंत्रालय द्वारा जल स्रोतों की गणना

जल स्रोतों की गणना

जल शक्ति मंत्रालय द्वारा जल स्रोतों की गणना

जल शक्ति मंत्रालय ने देश में पहली बार जल स्रोतों की गणना की है। जनगणना 2018-19 में आयोजित की गई थी, और सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में 2.4 मिलियन से अधिक जल निकायों की गणना की गई थी। यह गणना भारत के जल संसाधनों की एक व्यापक सूची प्रदान करती है, जिसमें प्राकृतिक और मानव निर्मित जल स्रोत जैसे तालाब, टैंक, झील आदि के साथ-साथ जल स्रोतों पर अतिक्रमण से जुड़ा डेटा एकत्र करना शामिल है। जनगणना ने ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों के बीच असमानताओं और अतिक्रमण के विभिन्न स्तरों पर भी प्रकाश डाला और देश के जल संसाधनों पर महत्वपूर्ण जानकारी सामने रखी है।
यह गणना सभी जल स्रोतों के एक समग्र राष्ट्रीय डेटाबेस तैयार करने के क्रम में छठी लघु सिंचाई गणना के अनुरूप केंद्र प्रायोजित योजना “सिंचाई गणना” के तहत शुरू की गई थी। इसमें जलाशयों के प्रकार, उनकी स्थिति, अतिक्रमण की स्थिति, उपयोग, भण्डारण क्षमता, भण्डारण भरने की स्थिति आदि सहित सभी महत्वपूर्ण पहलुओं पर जानकारी एकत्र की गई। इसमें ग्रामीण के साथ-साथ शहरी क्षेत्रों में स्थित उन सभी जल निकायों को शामिल किया जो उपयोग में हैं या उपयोग में नहीं हैं। गणना में जल स्रोतों के सभी प्रकार के उपयोगों जैसे सिंचाई, उद्योग, मत्स्यपालन, घरेलू/पेयजल, मनोरंजन, धार्मिक, भूजल पुनर्भरण आदि को भी ध्यान में रखा गया है। यह गणना सफलतापूर्वक पूरी कर ली गई है और अखिल भारतीय और राज्य-वार रिपोर्ट प्रकाशित की गई हैं।

गणना की मुख्य बातें इस प्रकार हैं:

  • देश में 24,24,540 जल स्रोतों की गणना की गई है, जिनमें से 97.1% (23,55,055) ग्रामीण क्षेत्रों में हैं और केवल 2.9% (69,485) शहरी क्षेत्रों में हैं।
  • जल स्रोतों की संख्या के मामले में शीर्ष 5 राज्य पश्चिम बंगाल, उत्तर प्रदेश, आंध्र प्रदेश, ओडिशा और असम हैं जहां देश के कुल जल स्रोतों का लगभग 63% हैं।
  • शहरी क्षेत्रों में जल स्रोतों की संख्या के मामले में शीर्ष 5 राज्य पश्चिम बंगाल, तमिलनाडु, केरल, उत्तर प्रदेश और त्रिपुरा हैं, जबकि ग्रामीण क्षेत्रों में शीर्ष 5 राज्य पश्चिम बंगाल, उत्तर प्रदेश, आंध्र प्रदेश, ओडिशा और असम हैं।
  • 59.5 प्रतिशत जल स्रोत तालाब हैं, इसके बाद टैंक (15.7%), जलाशय (12.1%), जल संरक्षण योजनाएं / रिसाव टैंक / रोक बंध (9.3%), झीलें (0.9%) और अन्य (2.5%) हैं।
  • 55.2% जल स्रोतों का स्वामित्व निजी संस्थाओं के पास है जबकि 44.8% जल स्रोतों का स्वामित्व सार्वजनिक क्षेत्र के पास है।
  • सभी सार्वजनिक स्वामित्व वाले जल स्रोतों में से, अधिकतम जल निकायों का स्वामित्व पंचायतों के पास है, इसके बाद राज्य सिंचाई/राज्य जल संसाधन विभाग आते हैं।
  • सभी निजी स्वामित्व वाले जल स्रोतों में, अधिकतम जल स्रोत व्यक्तिगत स्वामित्व/ किसानों के पास है, जिससे लोगों के समूह और अन्य निजी संस्थाएं आती हैं।
  • शीर्ष 5 राज्य जो निजी स्वामित्व वाले जल स्रोतों में अग्रणी हैं, वे पश्चिम बंगाल, असम, आंध्र प्रदेश, ओडिशा और झारखंड हैं।
  • सभी ‘उपयोग हो रहे’ जल स्रोतों में से, प्रमुख जल स्रोतों को सिंचाई के बाद मत्स्य पालन में उपयोग किए जाने की जानकारी मिली है।
  • शीर्ष 5 राज्य जहां मत्स्य पालन में जल स्रोतों का प्रमुख उपयोग होता है, वे पश्चिम बंगाल, असम, ओडिशा, उत्तर प्रदेश और आंध्र प्रदेश हैं।
  • शीर्ष 5 राज्य जिनमें जल स्रोतों का प्रमुख उपयोग सिंचाई में होता है, वे झारखंड, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, पश्चिम बंगाल और गुजरात हैं।
  • 78% जल स्रोत मानव निर्मित जल स्रोत हैं जबकि 22% प्राकृतिक जल निकाय हैं। सभी जल स्रोतों में से 1.6% (38,496) जल स्रोतों का अतिक्रमण होने की सूचना है, जिनमें से 95.4% ग्रामीण क्षेत्रों में और शेष 4.6% शहरी क्षेत्रों में हैं।
  • 23,37,638 जलाशयों के संबंध में जल विस्तार क्षेत्र की जानकारी दी गई। इन जल स्रोतों में से, 72.4% का जल विस्तार क्षेत्र 0.5 हेक्टेयर से कम है, 13.4% का जल विस्तार क्षेत्र 0.5-1 हेक्टेयर के बीच है, 11.1% का जल विस्तार क्षेत्र 1-5 हेक्टेयर के बीच है और शेष 3.1% जल स्रोतों का जल विस्तार 5 हेक्टेयर से अधिक है।

जल स्रोतों की गणना में राजस्थान की स्थिति

क्र.सं.पैरामीटरइकाईनिधिकुल का प्रतिशत*
1जल निकायों की कुल संख्यासं.16,939
ग्रामीण क्षेत्रों में जल निकायों की कुल संख्यासं.16,75098.88
शहरी क्षेत्रों में जल निकायों की कुल संख्यासं.1891.12
aप्रकार के अनुसार जल निकायों की कुल संख्यासं.
तालाब8,04647.50
टैंक5,63933.29
झीलें660.39
जलाशय1320.78
जल संरक्षण योजनाएँ/छिद्रण टैंक/बांधों की जाँच1,4818.74
अन्य1,5759.30
bनिजी स्वामित्व वाले जल निकायसं.9,03353.33
क्षेत्र के अनुसार जल निकायसं.
DPAP1,0376.12
जनजातीय1,74510.30
DDP2361.39
बाढ़ प्रवृत्त520.31
नक्सल प्रभावित क्षेत्र460.27
अन्य13,82381.60
कुल16,939100.00
2उपयोग के प्रकार से जल निकायसं.
सिंचाई5,76642.98
औद्योगिक3222.40
मछली पालन1871.39
घरेलू / पीने2,51118.72
मनोरंजन2441.82
धार्मिक1371.02
भूजल पुनर्भरण2,40617.93
अन्य1,84313.74
कुल13,416100.00
3प्राकृतिक/मानव निर्मित जल निकायसं.
प्राकृतिक4,79928.33
मानव निर्मित12,14071.67
4जल निकाय कारणों से उपयोग में नहीं आ रहे हैंसं.
सूखा हुआ16,8847.91
निर्माण2356.67
गाद2687.61
मरम्मत से परे नष्ट1042.95
खारापन250.71
औद्योगिक अपशिष्ट के कारण50.14
अन्य1,19834.01
5भरने की स्थिति के अनुसार जल निकायों का वितरणसं.
हर साल भरा जाता है1,0777.76
सहसा भरा हुआ8,66462.41
कभी कभार भरा हुआ3,36124.21
कभी नहीं भरा7815.63
कुल13,883100.00
6लाभान्वित हुए नगरों/
कस्बों की संख्या के अनुसार जल निकायों का वितरण
सं.
112,05789.87
2 से 51,2829.56
6 से 10530.40
11 से 20130.10
21 से 50100.07
50 से 50010.01
कुल13,416100.00
7जल विस्तार क्षेत्र द्वारा जल निकायों का वितरणहे.
0.5 हेक्टेयर से कम7,89346.60
0.5 हेक्टेयर से 1.0 हेक्टेयर2,86116.89
1 हेक्टेयर से 5 हेक्टेयर3,93823.25
5 हेक्टेयर से 10 हेक्टेयर1,0186.01
10 हेक्टेयर से 50 हेक्टेयर8735.15
50 हेक्टेयर से अधिक3562.10
कुल16,939100.00
8भंडारण क्षमता के अनुसार जल निकायों का वितरण
(घन मीटर में)
घन मीटर
0 से 1003,41920.18
100 से 10006363.75
1000 से 100007,29443.06
10000 से अधिक5,59033.00
कुल16,939100.00
9अतिक्रमित जलाशयों की संख्यासं.47

जल स्रोतों की गणना में राजस्थान की स्थिति Download

भारत में जल स्रोतों की गणना Download

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: © RajRAS